Corona Virus- के चलते अबतक किन किन नेताओं की मोत हुयी ?


Corona Virus- के चलते अबतक किन किन नेताओं की मोत हुयी ?


कोरोना  वायरस की वजह से बुधवार को केंद्रीय रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी का एम्स में निधन हो गया। 11 सितंबर को कोरोना पॉजिटिव  रिपोर्ट आने के बाद उन्हें एम्स में भर्ती किया गया था।  सुरेश अंगड़ी 65 साल के थे। 

 भारत में कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं।  सुरेश अंगड़ी की तरह कोरोनावायरस ने कई जनप्रतिनिधियों की जान ली है। पूर्व राष्ट्रपति चार सांसद और कई विधायक इसके कारण अपनी जान गवां चुके हैं।  इनमें सबसे बड़ा नाम पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का है।  

वोह सेना ke r&r अस्पताल में ब्रेन सर्जरी के लिए भर्ती हुए थे,  जहां वह कोरोनावायरस से संक्रमित पाए गए। संक्रमण के चलते उनकी हालत और बिगड़ गई और ३१ अगस्त को उनकी मौत हुई।  16 सितंबर को आंध्र प्रदेश में तिरुपति से सांसद बल्ली दुर्गा प्रसाद की चेन्नई के अपोलो अस्पताल में कोरोना  संक्रमण के चलते मौत हो गई थी। 


बल्ली दुर्गा प्रसाद योजन श्रमिक रायतु कांग्रेस पार्टी से थे।  उनके निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी दुख जताया था।  64 साल की दुर्गाप्रसाद ने लूर में गुडूर से विधायक रह चुके थे।  इसी दौरान राज्यसभा सांसद अशोक गस्ती का भी कोरोनावायरस के चलते निधन हो गया।  अशोक गस्ती बीजेपी के कर्नाटक से सांसद थे।  

अशोक गस्ती हाल ही में राज्यसभा सांसद चुने गए थे और वह एक बार भी नहीं पहुंचे थे। 55 साल के अशोक गस्ती को मल्टी ऑर्गन फैलियर की दिक्कत हो गई थी और वह लाइक सपोर्ट पर थे।  इससे पहले 28 अगस्त को तमिलनाडु कन्याकुमारी से कांग्रेस सांसद वसंतकुमार चल बसे थे। 

 70 साल के वसंत कुमार को कुरूना वायरस से संक्रमित होने के चलते 10 अगस्त को चेन्नई में भर्ती कराया गया था।  इसके अलावा UP मध्य प्रदेश पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु में कई विधायकों की कोरोना वायरस के कारन  मौत हो गई थी। 


उत्तर प्रदेश में 1 महीने में ही 2 मंत्रियों की मौत कोरोना के चलते हुई। योगी आदित्यनाथ कैबिनेट में एकमात्र महिला मंत्री कमल रानी वरुण की कोरोनावायरस के कारण मौत हो गई थी।  कमल रानी वरुण यूपी की तकनीकी शिक्षा मंत्री थी। 

उनके बाद क्रिकेटर से नेता बने नागरिक सुरक्षा मंत्री चेतन चौहान भी कोरोना  वायरस के कारण जान गवा बैठे।  चेतन चौहान को वेंटिलेटर पर रखना पड़ा था क्योंकि वायरस के चलते उनकी किडनी में समस्या आ गई थी। 


 इसी दौरान मध्य प्रदेश के कांग्रेसी विधायक गोवर्धन डांगी की 15 सितंबर को कोरोनावायरस के कारण मौत हो गई थी।  पश्चिम बंगाल में टीएमसी विधायक समरेश दास और पार्टी में उनके सहकर्मी तमोनाश घोष की भी कोरोनावायरस के कारण मौत हो गई थी। पूर्वी मिदनापुर में ैग्रा से विधायक समरेश दास 76 साल के थे और उन्हें किडनी संबंधी समस्या हो गई थी।  

60 साल के तमोनाश घोष दक्षिण 24 परगना जिले में फलता से विधायक थे।  वहीँ तमिलनाडु में डीएमके नेता ज अम्बाजागन की जून में कोरोना  वायरस के कारण जान चली गई थी। 76 साल की सीपीआईएम नेता श्यामल चक्रवर्ती की भी कोविड-19 के चलते मौत हो गई।  वह परिवहन मंत्री रह चुके हैं। 


कुछ मंत्रियों ने पॉजिटिव हो कर भी कोरोना को हराया 

गृह मंत्री अमित शाह, केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन, आप विधायक आतिशी मार्लेना, और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री व पीडब्ल्यूडी मंत्री अशोक चौहान भी कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं।  लेकिन इन सभी नेताओं ने कोरना को मात दी और स्वस्थ होकर घर लौटे। 

इनके अलावा पूर्व केंद्रीय मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह को भी जून में कोरोनावायरस का संक्रमण हुआ था।  हालांकि वह कोरोना से ठीक हो गए थे लेकिन कई दूसरी परेशानियों के चलते 13 सितंबर को उनका निधन हो गया था। 


Read More-


Post a Comment

0 Comments